RBI ने NBFC पर कसा शिकंजा, ओम्बड्समैन स्कीम लॉन्च की

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) पर शिकंजा कसा है. केंद्रीय बैंक ने शुक्रवार को एनबीएफसी के लिए ओम्बड्समैन स्कीम लॉन्च कर दी है.

एनबीएफसी से संबंधित किसी तरह की शिकायत होने पर ग्राहक इस ओम्बड्समैन का दरवाजा खटखटा सकते हैं. केंद्रीय बैंक ने कहा है, “इस स्कीम से ग्राहकों को निशुल्क सुविधा मिलेगी. वे इस स्कीम के तहत आने वाली एनबीएफसी की सेवाओं में किसी तरह की कमी की शिकायत ओम्बड्समैन के पास कर सकेंगे.”

देश के चार शहरों – चेन्नई, कोलकाता, मुंबई और दिल्ली में ओम्बड्समैन के ऑफिस स्थित होंगे. ये ऑफिस अपने-अपने क्षेत्र के तहत आने वाली ग्राहकों की शिकायतों का निपटारा करेंगे. आरबीआई ने कहा है, “शुरुआत में इस स्कीम के दायरे में डिपॉजिट स्वीकार करने वाली सभी एनबीएफसी को रखा जाएगा. बाद में इस स्कीम के तहत 100 करोड़ रुपये से ज्यादा एसेट साइज वाली एनबीएफसी को भी रखा जाएगा.” इस स्कीम के तहत अपील की व्यवस्था बनाई गई है. इसमें जिस एनबीएफसी के खिलाफ शिकायत दाखिल गई है, उसे ओम्बड्समैन के फैसले के खिलाफ अपील करने की इजाजत होगी. वह अपीलीय अथॉरिटी में अपील कर सकेगी.

केंद्रीय बैंक ने इस स्कीम के बारे में ‘बार-बार पूछे जाने वाले सवालों की सूची’ भी जारी की है. इसे एपएक्यू कहते हैं. इसमें कहा गया है कि किसी तरह की शिकायत होने पर शिकायतकर्ता को सबसे पहले संबंधित एनबीएफसी का दरवाजा खटखटाना होगा.

एपएक्यू में कहा गया है, “अगर शिकायत मिलने के एक महीने की अवधि में एनबीएफसी जवाब नहीं देती है या वह शिकायत को खारिज कर देती है या अगर शिकायतकर्ता उसके जवाब से संतुष्ट नहीं होता है तो शिकायतकर्ता ओम्बड्समैन के पास उस एनबीएफसी की शिकायत कर सकता है.”

यह शिकायत ओम्बड्समैन के उस ऑफिस में की जानी चाहिए, जिसके क्षेत्र में संबंधित एनबीएफसी आती है. एफएक्यू में यह भी कहा गया है कि ओम्बड्समैन ग्राहक की शिकायत दाखिल करने और उसके निपटारे के लिए कोई फीस नहीं लेगा.

पिछले कुछ साल में कई बड़ी एनबीएफसी ने सेवाएं शुरू की हैं. ये ग्राहकों को आसान किश्तों पर सामान खरीदने सहित कई सेवाएं दे रही हैं.

 

Advertisements